निदेशक का संदेश

डॉ. डी. राम, 17 जनवरी, 2013 से केन्द्रीय मनश्चिकित्सा संस्थान में निदेशक के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने 1982 में आयुर्विज्ञान संस्थान, बी.एच.यू., वाराणसी से मेडिसिन एंड सर्जरी में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और 1987 में उसी संस्थान से आपने मनोचिकित्सा में परास्नातक पूरा किया।


उन्होंने 1990 से विभिन्न पदों पर रहकर संस्थान की सेवा की है। वह एक कुशल शिक्षक एवं प्रशासक रहे हैं। वर्तमान में वह केन्द्र सरकार के साथ नीतिगत निर्णय लेने में काफी सक्रिय हैं, साथ ही वे सरकार की विभिन्न विशेषज्ञ समितियों का हिस्सा हैं। 30 वर्षों से अधिक के शिक्षण अनुभव के साथ वे विभिन्न विशिष्टताओं में स्नातकोत्तर प्रशिक्षुओं के लिए एक प्रेरणाश्रोत रहे हैं। वे मनोचिकित्सा, नैदानिक मनोविज्ञान और मनोवैज्ञानिक सामाजिक कार्य में 100 से अधिक शोध प्रबंधों के मार्गदर्शक रहे हैं। उन्हें रिसर्च मेथोडोलॉजी, मूड-डिस्आऑर्डर एवं साईको-पैथोलॉजी में विशेष रूप से रूचि रही है जो उनके राष्ट्रीय एवं अंर्तराष्ट्रीय प्रकाशनों में प्रतिबिम्बित होता है।

डॉ. डी. राम संस्थान को राष्ट्रीय महत्व के (Centre of National Importance) के रूप में विकसित करने एवं मानसिक स्वास्थ्य में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। इस मिशन में मानसिक स्वास्थ्य के विशेषज्ञों को तैयार करना, मरीजों का तृतीयक देखभाल एवं पुनर्वास का लक्ष्य शामिल है।