व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र

व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र, देश के विभिन्न भागों से आने वाले मादक पदार्थों के आदी मरीजों का उपचार करता है। इस केन्द्र में आने वाले अधिकांश मरीज झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ आदि राज्यों से हाते हैं। देश के सुदूर उत्तरपूर्वी राज्यों से भी मरीज यहाँ इलाज के लिए आते हैं। यह 60 बिस्तर क्षमता का नशा विमुक्ति केन्द्र है जो विशेष रूप से शराब, भांग, हेरोईन और दूसरे मादक द्रव्यों के आदी हो चुके मरीजों का उपचार करता है।

व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र, संस्थान के विभिन्न व्यवसायिक पाठ्यक्रमों के तहत् चिकित्सीय एवं गैर-चिकित्सीय विशेषज्ञों को प्रशिक्षण देता है जिसमें स्नातकोत्तर मनश्चिकित्सक, नैदानिक मनोवैज्ञानिक, मनोचिकित्सीय सामाजिक कार्यकर्ता एवं मनोचिकित्सा नर्सें शामिल हैं जिन्हें मादक द्रव्यों के निर्भरता के विभिन्न पहलूओं पर प्रशिक्षण दिया जाता है। यह केन्द्र झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ से आने वाले अनेक नर्सिंग प्रशिक्षुओं को भी इस संबंध में प्रशिक्षण देने का कार्य करता है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के द्वारा प्रारंभ किया गया एनडीसीपीए कार्यक्रम के अंतर्गत यह विभाग पूर्वी भारत के विशेषज्ञों के लिए क्षमता निर्माण एवं मानव संसाधन विकास में प्रशिक्षण देने का एक नोडल केन्द्र है।

मादक द्रव्यों के लगातार सेवन से मरीज के शरीर के विभिन्न अंग तंत्र क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, जिसका स्वास्थ्य एवं आदतों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता हैं। इसके उपचार के लिए आवश्यकतानुसार मरीजों का सम्पूर्ण शारीरिक जांच किया जाता है जिसमें सीटी स्कैन, एक्स-रे, अल्ट्रासोनोग्राफी, एचआईवी, एचबीएसएजी, टीबी आदि जैसे जांच शामिल हैं।

विभाग का इतिहास

प्रारंभ से ही एस.एस. राजू व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र नशे के आदी हो चुके मरीजों के लिए औषधीय एवं मनोवैज्ञानिक उपचार देने के लिए एक आधुनिक केन्द्र रहा है। इस नशा विमुक्ति केन्द्र की नींव संस्थान के तत्कालीन निदेशक एवं चिकित्सा अधीक्षक स्व. प्रो. एस.एस. राजू के कर-कमलों के द्वारा 26 जनवरी, 1998 को रखी गई। इस केन्द्र का उद्घाटन 09 जुलाई, 1999 को अतिरिक्त स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉ. ओ.एन. कृष्णा के द्वारा, एस.एस. राजू व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र के नाम से किया गया। प्रारंभ में इसकी क्षमता 30 बिस्तरों की थी जो बाद में जनवरी, 2011 में बढ़कर 60 बिस्तरों की हो गई।

वर्तमान कार्यकारी परिवेशः :

व्यसन मनोचिकित्सा केन्द्र कार्य करने के लिए एक स्वस्थ्य एवं स्वतंत्र वातावरण प्रदान करता है। इस केन्द्र के पास अनेक विशेषज्ञ संकाय और कुशल कर्मचारियों का समूह है जो देखभाल के विभिन्न तरीकों का उपयोग करते हैं। वर्तमान में इस विभाग में एक निदेशक प्राध्यापक, मनश्चिकित्सा के चार सहायक प्राध्यापक एवं दो वरिष्ठ आवासीय चिकित्सक हैं। यहाँ मनोविज्ञान का एक सहायक प्राध्यापक एवं मनोचिकित्सा सामाजिक कार्य का एक सहायक प्राध्यापक भी है। इसके अलावे विभाग में नैदानिक मनोविज्ञान के एम.फिल. छात्रों, मनोचिकित्सा सामाजिक कार्य के एम.फिल. छात्रों एवं मनश्चिकित्सा के स्नातकोत्तर प्रशिक्षुओं की तैनाती बारी-बारी से की जाती है। अनके विशेषज्ञ चिकित्सकों, योग्य प्रशिक्षुओं एवं कुशल कर्मचारियों की नियुक्ति के बावजूद यह विभाग मरीजों के उपचार में समग्र और बहुआयामी दृष्टिकोण में विश्वास रखता है। इस विभाग में नर्सिंग कर्मचारियों में एक ए.एन.एस., एक प्रभारी (वरिष्ठ नर्सिंग अधिकारी) एवं दस कनिष्ठ नर्सिंग अधिकारी हैं। इसके अलाव इस विभाग में छः वार्ड अटेंडेंट, एक स्टोर प्रभारी और एक माली है।

विभाग में सुविधाएं

नैदानिक सेवाएं:

इस विभाग द्वारा बाहरी एवं भर्ती दोनों मरीजों के लिए मादक द्रव्य सेवन से संबंधित परामर्श देने के लिए नैदानिक सेवाएं दी जाती है। उपचार दृष्टिकोण में मूल्यांकन एवं उपचार के व्यापक बायोसाईकोसोशल दृष्टिकोण का प्रयोग किया जाता है। इस नशा विमुक्ति केन्द्र के प्रतिबद्ध टीम में मनोचिकित्सक, आवासीय चिकित्सक, नैदानिक मनोविज्ञानी, मनश्चिकित्सा सामाजिक कार्यकर्ता एवं मनश्चिकित्सा नर्सें हैं।

बाह्य रोगी सेवाएँ एवं आपातकालीन सेवाएँ :

बाहरी मरीजों और आपातकालीन सेवाओं के लिए सप्ताह के प्रत्येक शनिवार (राजपत्रित अवकाश को छोड़कर) को नशा विमुक्ति क्लीनिक चलाया जाता है। संस्थान के ओपीडी में इलाज के लिए आने वाले प्रत्येक मरीजों के विस्तृत ब्यौरा तैयार किया जाता है। उसके बाद मरीज का मनोसामाजिक एवं पारिवारिक पृष्ठभूमि का मूल्यांकन किया जाता है। तद्नुसार वैसे मरीज जिनको सिर्फ बाह्य रोगी आधार पर उपचार की आवश्यकता होती है उन्हें नशा विमुक्तिकरण, सूक्ष्म चिकित्सा उपाय, सूक्ष्म मनश्चिकित्सा उपाय और अनुवर्ती सेवाएं प्रदान की जाती है। यह केन्द्र 24 घंटे आपातकालीन सेवाएँ प्रदान करता है एवं आपातकालीन कक्ष में भर्ती मरीजों का उपचार करता है।

भर्ती मरीजों की सेवाएँ :

भर्ती मरीज सेवाओं में व्यापक प्रबंधन कार्यक्रम शामिल है, जिसमें मरीजों का विस्तृत मूल्यांकन और व्यक्तिगत उपचार परामर्शी मनश्चिकित्सकों, आवासीय मनश्चिकित्सकों, नैदानिक मनोविज्ञानियों, मनश्चिकित्सा सामाजिक कार्यकर्ताओं एवं मनोचिकित्सा नर्सों की समर्पित टीम द्वारा किया जाता है। इस केन्द्र में भर्ती सभी मरीजों का आवश्यकतानुसार विस्तृत शारीरिक मूल्यांकन, रक्त एवं जैव रासायनिक जाँच एवं विकरणीय जाँच जैसे सीटी स्कैन, एक्स-रे, अल्ट्रासोनोग्राफी एवं एचआईवी की जाँच की जाती है। भर्ती मरीजों के अनेक मनोसामाजिक कारकों का मूल्यांकन किया जाता है जिसमें नैदानिक मनोचिकित्सा, व्यक्तित्व मूल्यांकन, संज्ञानात्मक आकलन एवं पारिवारिक संरचना एवं उसकी गतिविधियाँ शामिल है। प्रारंभ में मरीजों को नशीली पदार्थों का प्रतिकार करने के लिए उनका उपचार किया जाता है और उसके बाद नशे की लत के प्रबंधन हेतु औषधीय एवं गैर औषधीय उपचारों का प्रयोग कर छोटी एवं बड़ी अवधि के इलाज किये जाते है। औषधीय उपचारों में लालसा रोधी दवाएँ, मौखिक प्रतिस्थापन चिकित्सा, निवारक चिकित्सा आदि शामिल है। गैर-औषधीय चिकित्सा में प्रेरक वृद्धि चिकित्सा (एमईटी), पूर्वावस्था प्राप्ति रोकथाम चिकित्सा (आरपीटी), पारिवारिक चिकित्सा, व्यवहारिक चिकित्सा, स्वीकारात्मक कौशल, साधक कौशल प्रबंधन एवं योग तथा ध्यान भी शामिल है। हमलोग सहरूग्नता कि स्थितियों जैसेः व्यक्तित्व विकार, मूड एवं घबराहट संबंधी विकार आदि का भी प्रबंधन करते है, जो अक्सर विभिन्न व्यसनों से जुड़े होते हैं। भर्ती मरीजों के देखभाल करने वाले एवं अभिभावकों को विभिन्न प्रकार के सूचनाप्रद शिक्षा एवं संचार (आईईसी) गतिविधियों में शामिल किया जाता है, जिसमें समूह बैठक, व्याख्यान के दौरान जागरूकता कार्यक्रम, स्लाईड और विडियो शो, मनोशिक्षा आदि शामिल है।

मनोरंजन गतिविधियाँः :

इस केन्द्र में भर्ती मरीजों के लिए अनेक प्रकार की मनोरंजक गतिविधियाँ उपलब्ध है, जिसमें योग, जिम, कैरमबोर्ड का खेल, संगीत, टी.वी., सिनेमा (प्रत्येक शनिवार को), पुस्तकालय की सुविधाएँ (पत्रिकाएँ, अखबार, कहानी एवं उपन्यास की पुस्तकें), बैडमिंटन, टेबल टेनिस आदि शामिल है।

पुनर्वास सेवाएँ :

इस संस्थान के व्यावसायिक चिकित्सा केन्द्र में मरीजों के व्यावसायिक पुनर्वास के लिए पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध है।

2017 के आँकड़ें

डेटा कुल
भर्ती 717
नए मरीज 484
अनुवर्ती (फोलो-अप) मरीज 233
कुल डिस्चार्ज (छुट्टी) 698

Sr No Name Designation
1 Dr. Christoday RJ Khess Director Professor of Psychiatry & I/C Center for Addiction Psychiatry
2 Dr. Sanjay Kumar Munda Assistant Professor of Psychiatry
3 Dr. Roshan V Khanande Assistant Professor of Psychiatry
4 Dr. Sourav Khanra Assistant Professor of Psychiatry
5 Dr. Deyashini Lahiri Assistant Professor of Clinical Psychology
6 Dr. Dipanjan Bhattacharjee Assistant Professor of Psychiatric Social Work